Nawabi Foods – नवाबी जायके का लुत्फ उठाने के लिए लखनऊ की इन जगहों पर एक बार जरूर जाएं

Nawabi Foods – नवाबी फूड्स के विशेषज्ञों के अनुसार, टुंडे कबाब, हैदराबादी बिरयानी की तरह, लखनऊ में भी नवाबी जायके लोकप्रिय है। कुछ लोगों का तर्क है कि टुंडे कबाब का इतिहास हैदराबादी बिरयानी से भी लंबा है। एक सदी से भी अधिक पुराना यह व्यवसाय अकबरी गेट पर स्थित है।

Lifestyle Desk, दिल्ली भारत के सबसे बड़े राज्य की राजधानी लखनऊ, अपने नवाबी व्यंजनों के लिए विख्यात है। नतीजतन, लखनऊ को नवाबों के शहर के रूप में जाना जाता है। कई बॉलीवुड फिल्मों ने लखनवी अदब का जिक्र किया है। लखनऊ को पुरानी कहावत के लिए भी जाना जाता है “पहले तुम, पहले तुम।”

Nawabi Foods – नवाबी जायके का लुत्फ उठाने के लिए लखनऊ की इन जगहों पर एक बार जरूर जाएं (From Google)

लखनऊ अपने नवाबी व्यंजनों के लिए भी जाना जाता है। नवाबों की राजधानी लखनऊ में देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। दूसरी ओर, नवाबी जायके को पसंद करते हैं। यदि आप लखनऊ की यात्रा पर विचार कर रहे हैं, तो आपको नवाबी स्वादों का अनुभव करने के लिए इन स्थानों पर अवश्य जाना चाहिए। चलो पता करते हैं-

कबाब टुंडे

विशेषज्ञों के अनुसार टुंडे कबाब लखनऊ में लोकप्रिय है। कुछ लोगों का तर्क है कि टुंडे कबाब का इतिहास हैदराबादी बिरयानी से पहले का है। एक सदी से भी अधिक पुराना यह व्यवसाय अकबरी गेट पर स्थित है। बहुत से लोग अकबरी गेट पर टुंडे कबाब का आनंद लेने के लिए ही जाते हैं। टुंडे कबाब की रेसिपी सिर्फ हाजी परिवार ही जानता है। हाजी परिवार ने तो इस व्यंजन को अपनी बेटियों के साथ भी साझा नहीं किया है। यदि आप लखनऊ जाते हैं, तो आपको अकबरी गेट पर नवाबी ज़ैका, टुंडे कबाब ज़रूर आज़माना चाहिए।

Nawabi Foods- आपने शायद हैदराबादी और मुरादाबादी बिरयानी के बारे में सुना होगा। इसके अलावा लखनवी बिरयानी मशहूर है। इसके लिए आपको लखनऊ के इदरीस होटल जरूर जाना चाहिए। नवाबी व्यंजनों का नमूना लेने के लिए इदरीस होटल जाएं। स्थानीय लोग आपको इदरीस होटल के बारे में जानकारी प्रदान कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें

मुगल भोजन का नमूना लिए बिना लखनऊ की यात्रा अधूरी होगी। इसके लिए हजरतगंज में मटन रोगन जोश और गलावती कबाब खाने के लिए दस्तरखान जाएं। मटन रोगन जोश मुगल तरीके से बनाया जाता है। इसके अलावा, शहर के चारों ओर कई प्रकार के स्ट्रीट व्यंजन मिल सकते हैं।

Toys – भारतीय खिलौनों से खेल रहे यूरोप, जापान और अमेरिका के बच्चे; बढ़ा निर्यात, आंकड़ों से समझें, क्‍या मिल रहे संकेत